Interesting Things [ दिलचस्प बातें ]
ताकि सेहत रहे सदाबहार..
ताकि सेहत रहे सदाबहार..
जाड़ों में जोड़ों की देखभाल

सर्दियों के बढ़ने पर अर्थराइटिस के रोगियों की पीड़ा भी बढ़ सकती है। इस रोग से पीड़ित लोगों के जोड़ों(ज्वाइंट्स) में दर्द की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे रोगियों को आर्थोपेडिक स्पेशलिस्ट से परामर्श लेकर सर्दियों की शुरुआत में ही शीघ्र ही जांचें कराकर इलाज कराना चाहिए।

उपचार

बढ़ती उम्र के कारण जोड़ों की कार्टिलेज के घिसने के चलते डिजनरेटिव अर्थराइटिस (ऑस्टियोअर्थराइटिस) के मामले में उपचार का उद्देश्य रोग की तेजी को धीमा करना होता है। रोग को पैदा करने वाले कारणों पर नियंत्रण बहुत जरूरी है। तभी कार्टिलेज के क्षय होने और दर्द को कम करने में मदद मिलती है और रोगी की कार्यक्षमता में भी सुधार होता है। यदि रोगी को तेज दर्द न हो, तो दवा या इंजेक्शन थेरेपी से स्थिति में सुधार हो सकता है। यदि जोड़ को गंभीर रूप से नुकसान हुआ हो या जोड़ों में अधिक क्षय हुआ हो, तो आर्थोस्कोपी या आर्थोप्लास्टी जैसे सर्जिकल उपचार के विकल्प आवश्यक हो सकते हैं।

अन्य उपाय
  • नियमित रूप से सामान्य व्यायाम करें। सर्दियों का मौसम लोगों को कम सक्रिय बनाता है और यह विभिन्न प्रकार के जोड़ों की बीमारियां पैदा कर सकता है। कई लोगों का मानना है कि ठंड के मौसम में उन्हें कम व्यायाम करना चाहिए और अपने जोड़ों के अधिक इस्तेमाल की कोशिश नहीं करनी चाहिए। लेकिन सच्चाई यह है कि सामान्य व्यायाम करने से जोड़ों का दर्द कम होता है।
  • रोजाना 30 से 60 मिनट तक पैदल चलना बोन मिनरल के घनत्व में किसी भी प्रकार की कमी को रोकता है और मांसपेशियों को सशक्त रखने में सहायक होता है। इस तरह आप जोड़ों के आस-पास की मांसपेशियों और लिगामेंट को स्वस्थ रखकर जोड़ों पर पड़ने वाले दबाव को कम कर सकते हैं।
  • व्यायाम के पहले और बाद में स्ट्रेचिंग आपके जोड़ों पर पड़ने वाले भार को कम करती है और इस प्रकार संभावित चोट को रोकने में भी सहायक है।
  • सर्दियों में ठंडा मौसम रक्त संचार (ब्लड सर्कुलेशन)में बाधा पहुंचाता है और मांसपेशियों और लिगामेंट को कड़ा कर देता है, लेकिन स्ट्रेचिंग तनाव वाली मांसपेशियों को आराम पहुंचाती है। स्ट्रेचिंग के लिए किसी प्रकार के उपकरण की आवश्यकता नहीं होती है। फिर भी यह जोड़ दर्द की रोकथाम या इसे कम करने में अधिक प्रभावी है।
  • जोड़ों को गर्म रखने और रक्त संचार को बढ़ाने के लिए गर्म कपड़े पहनने चाहिए। जब आप बाहर जा रहे हों, तो ठंडी हवा से जोड़ों की सुरक्षा के लिए इनर वियर पहनना न भूलें। मत भूलें कि पतले लेयर वाले कई कपड़ों को पहनने की बजाय मोटे लेयर वाले कपड़ों को पहनना गतिशीलता को बनाये रखने और चोट या इंजरी की रोकथाम के लिए अच्छा है।
  • यदि आपके घुटने में सूजन के अलावा दर्द भी हो रहा है, तो गर्म सेंक शुरू करने की बजाय उचित इलाज के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें।
क्‍यूं करना चाहिए प्रतिदिन नाश्‍ता..... क्‍यूं करना चाहिए प्रतिदिन नाश्‍ता.....
वजन घटाने के लिये किन-किन तरीको से करें पानी का से..... वजन घटाने के लिये किन-किन तरीको से करें पानी का से.....
शरीर में पानी की कमी से हो सकती है ये बीमारियां..... शरीर में पानी की कमी से हो सकती है ये बीमारियां.....
नमक न खाने से होने वाले 12 स्वास्थ्य लाभ..... नमक न खाने से होने वाले 12 स्वास्थ्य लाभ.....
बाजरा के आटे का हलवा  Millet Flour Halwa - Bajra n..... बाजरा के आटे का हलवा Millet Flour Halwa - Bajra n.....
प्रोफैसर ने ढूंढा चौक की धूल से निपटने का तरीका..... प्रोफैसर ने ढूंढा चौक की धूल से निपटने का तरीका.....
Why Learn Hindi – Ten Reasons to Learn Hindi..... Why Learn Hindi – Ten Reasons to Learn Hindi.....
पुरुषों द्वारा की जाने वाली फैशन संबंधित 10 गलतिया..... पुरुषों द्वारा की जाने वाली फैशन संबंधित 10 गलतिया.....
Advertisement Domain Registration E-Commerce Bulk-Email Web Hosting    S.E.O. Bulk SMS Software Development Web   Development Web Design